Vibhav Da Ki Dhadi – a story by Vinod Viplav

  विभव दा की दाढ़ी यह कहानी ‘ विभव दा का अंगूठा’ शीर्षक से 1996 में प्रकाशित कहानी संग्रह से ली गयी है। हालांकि तब से हमारा समाज काफी कुछ बदल गया है और कई नयी प्रवृतियों एवं समस्‍याओं ने जन्‍म ले लिया है, लेकिन समाज का मूल चरित्र काफी हद तक बरकरार है। हिन्‍दूवादी और मुस्ल्मि नेताओं... Continue Reading →

Advertisements

Hello world!

Welcome to WordPress.com. This is your first post. Edit or delete it and start blogging!

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑